, , ,

गरीबो के लिए ले आई बी जे पी नई सौगात

01/02/2017

एक्सप्रेस भारत नई दिळी

इस बार के आम बजट से शहरी और कस्बाई इलाकों में रहने वाले मिडिल क्लास को काफी उम्मीदें हैं। नोटबंदी के बाद यह उम्मीदें और ज्यादा बढ़ी हैं। वित्त मंत्री अरुण जेटली भी मिडिल क्लास को राहत देने की बातें करते रहते हैं। लेकिन यह तबका केवल बातों से संतुष्ट नहीं होगा। यदि इन्हें टैक्स में छूट मिलेगी तो निश्चित रूप से यह वर्ग खुश भी होगा और देश के विकास की गति भी तेज होगी।

आइए आपको बताते हैं कि इस बार के बजट से मिडिल क्लास को कौन सी उम्मीदें हैं

टैक्सेबल इनकम के दायरे को बढ़ाना
मिडिल क्लास चाहता है कि टैक्सेबल इनकम का मौजूदा दायरा जो कि ढाई लाख रुपए है, उसे बढ़ाया जाए। इससे इस वर्ग को फायदा तो मिलेगा ही साथ मिडिल क्लास यूथ को राहत भी मिलेगी।
टैक्स स्लैब को रीस्ट्रक्चर करना
टैक्स स्लैब को रीस्ट्रक्चर करने का सबसे ज्यादा फायदा शहरी मिडिल क्लास को मिलेगा। फिलहाल ढाई लाख रुपए से पांच लाख रुपए तक की आमदनी पर 10 प्रतिशत टैक्स लगता है। वहीं पांच लाख से 10 लाख रुपए तक की आमदनी पर यह दर 20 फीसदी है। 10 लाख सालाना आय से ज्यादा इनकम होने पर 30 प्रतिशत टैक्स काटा जाता है।
अलाउंस पर एक्सेंप्शन की लिमिट को बढ़ाना
तनख्वाह पर काम करने वाले कर्मियों के वेतन में बच्चों की शिक्षा, कन्वेंस, मेडिकल रिम्बर्समेंट, हाउस रेंट और लीव ट्रैवल के अलाउंस शामिल होते हैं। इन पर टैक्स भी काटा जाता है। यह दरें लंबे समय से बदली नहीं गई हैं।
80 प्रतिशत के अंतर्गत कटौती को बढ़ाया जाए
इनकम टैक्स एक्ट की धारा 80 प्रतिशत के अंतर्गत 150,000 रुपए से 300,000 रुपए तक आमदनी पर टैक्स से छूट दी जाती है। यदि इस पर वित्त मंत्री छूट देते हैं तो घरेलू सेविंग्स बढ़ेगी।
होम लोन के ब्याज पर मदद
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत खरीदे जाने वाले घरों के 9 लाख रुपए तक के होम लोन के ब्याज पर 3 फीसदी और 12 लाख रुपए तक के लोन पर 4 फीसदी की छूट देने की घोषणा की है। हालांकि इसका फायदा टियर 3 शहर के लोगों को मिलेगा। बजट 2017 में उम्मीद है कि इस लाभ को अन्य शहरों तक पहुंचाया जाएगा

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

, ,
Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: